रायबरेली: पारिवारिक विरासत बचाने के लिए दिखीं चिंतित प्रियंका गांधी, छलका दर्द अपनों के बीच

उत्तर प्रदेश देश राजनीति

सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र पहुंचीं प्रियंका वाड्रा के चेहरे पर न सिर्फ पारिवारिक विरासत बचाने की चिंता दिखी, बल्कि अपनों के बीच उनका दर्द भी दिखा। और उन्होंने यह भी कहा कि रायबरेली और अमेठी उनका घर है। घर के लोगों की निष्ठा पर उन्हें कोई संदेह नहीं है। मुझे बस आप सबका समर्पण चाहिए। रायबरेली और अमेठी के लोगों का उन्होंने आह्वान भी किया कि आगामी विधानसभा चुनाव में दोनों जिलों की 10 सीटों पर हम जीत हासिल करने के लिए पूरी ताकत झोंके।

Read more…अजब-गजब: डेंगू बुखार के बाद फिरोजाबाद में ‘आसमान’ पर बकरी के दूध के दाम, बिक रहा इतने रुपये किलो

भुएमऊ गेस्ट हाउस में रविवार को दो घंटे तक चली बैठक में रायबरेली और अमेठी के पदाधिकारियों  से प्रियंका ने मुलाकात करके पार्टी की जमीनी हकीकत परखी तो और उनका दर्द भी उनके सामने छलक पड़ा।

Read more…दिल्ली में अपराध : रेडियोधर्मी पदार्थ से मुनाफे का झांसा देकर 10 करोड़ ठगे, पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया

उन्होंने एक बार फिर दोनों जिलों को अपना घर बताया। दादी एवं पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी पिता पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यों का जिक्र किया। साथ ही लोगों से यह भी कहा कि उनकी निष्ठा में कोई कमी नहीं है। और बस इस बार उन्हें दोनों जिलों की जनता का समर्पण चाहिए। प्रियंका का इशारा साफ है कि उन्हें जरूर पूरे यूपी की कमान दी गई है, लेकिन रायबरेली और अमेठी उनकी पारिवारिक विरासत रही है। चुनाव में पूरी दमखम के साथ इस विरासत को बचाना है।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *