रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं, EMI लोन ग्राहकों को करना होगा इंतजार औरअभी राहत के लिए

दिल्ली नेशनल

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक समिति की बैठक के नतीजे आ गए हैं। आरबीआई ने एक बार फिर से रेपो रेट को स्थिर रखा है। रेपो रेट अभी भी 4 फीसदी पर स्थिर है। इसका मतलब ये हुआ कि आपकी बैंक की ईएमआई नहीं घटेगी। दरअसल, रेपो रेट में कटौती के बाद बैंकों पर ब्याज दर कम करने का भी दबाव होता है। यदि बैंक ब्याज दर में कटौती करते हैं तो ईएमआई भी कम हो जाती है।

Read more..अयोध्या राम मंदिर: 15 लाख रुपये रोज आ रहे ट्रस्‍ट के खाते में, अब तक तीन हजार तीन सौ करोड़ रुपये जमा

ऐसे में अब रिजर्व बैंक की ओर से रेपो रेट में बदलाव नहीं करने का सीधा मतलब ये हुआ कि बैंक लोन की ब्याज दर में कटौती नहीं करेंगे। आपको बता दें कि आरबीआई ने लगातार सातवीं बैठक में रेपो रेट को 4 फीसदी पर स्थिर रखने का फैसला लिया है। आरबीआई ने मांग बढ़ाने के इरादे से 22 मई, 2020 को नीतिगत दर में भी बदलाव किया था और इसे रिकार्ड न्यूनतम स्तर पर लाया था। आरबीआई गवर्नर ने बताया कि अर्थव्यवस्था अभी पूरी तरह से कोविड-19 संकट से उबर नहीं पाई है। यही वजह है कि रेपो रेट को अभी स्थिर रखा गया है।

Read more..‘खेलों के महाकुंभ’ में कोरोना का कहर: टोक्यो में आज रिकॉर्ड 5042 नए मामले, पहली बार हुआ ऐसा

वहीं, रिवर्स रेपो रेट 3.35 फीसदी पर है। मौद्रिक समिति की बैठक के नतीजों की जानकारी देते हुए आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि आरबीआई ने चालू वित्त वर्ष में जीडीपी वृद्धि दर का अनुमान 9.5 प्रतिशत पर बरकरार रखा है। बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 6.1% रहने की उम्मीद है।शक्तिकांत दास ने कहा कि अर्थव्यवस्था कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर से लगे झटके से बाहर आ रही है। वैक्सीनेशन में गति के साथ आर्थिक गतिविधियां बढ़ेंगी।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *