सियासत:ममता दीदी का अचानक जाग गया ‘हिंदी’ प्रेम,कहीं लोकसभा चुनाव 2024 तो इसकी वजह तो नहीं

दिल्ली नेशनल ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अब हिंदी की ताकत को समझने लगी हैं। इसकी एक बड़ी वजह 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव को भी माना जा सकता है। दरअसल पश्चिम बंगाल में शानदार जीत के बाद से लगातार इस पर बात पर चर्चा हो रही है कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी 2024 के लोकसभा चुनावों में क्या विपक्ष का चेहरा बन सकती हैं। लेकिन इस राह में उनकी अच्छी हिंदी नहीं आना भी एक बड़ी अड़चन साबित हो सकती है। जबकि हिंदी पट्टी वाले राज्यों खासतौर पर उत्तर प्रदेश को दिल्ली की सत्ता तक पहुंचने या केंद्रीय राजनीति में आने की एक सीढ़ी माना जाता है। इसलिए यदि इन राज्यों की जनता तक ममता को पहुंचना है तो उनका हिंदी में बोलना बेहद जरूरी होगा। चर्चा यह भी है कि इसी वजह से ममता बनर्जी को अब हिंदी से बहुत ज्यादा खास लगाव हो गया है। 

Read more..शिल्पा शेट्टी की मां सुनंदा ने पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई ,मामला धोखाधड़ी से जुड़ा है

ममता इन दिनों दिल्ली दौरे पर हैं। पश्चिम बंगाल की तीसरी बार मुख्यमंत्री बनने के बाद वे पहली बार दिल्ली आई हैं। अपने इस दौरे पर जहां वे सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद मोदी से मिलीं, वहीं कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई अन्य नेताओं से भी मुलाकात की है। भाजपा से कड़ी टक्कर मिलने के बाद भी वे पश्चिम बंगाल की सत्ता पर काबिज होने में कामयाब हुई हैं, इसलिए कई सवालों के साथ बड़ी संख्या में पत्रकार भी उनसे मिलना चाहते थे।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *