रामभक्त नहीं भ्राता हनुमान, 15 बातें जानिए बजरंगी के बारे में

अजब- ग़ज़ब अध्यात्म

लखनऊ : भगवान श्रीराम के भक्त हनुमान के अन्य भाई भी थे। हम आपको बताते हैं कि हनुमान जी के कितने भाई बहन थे।

ब्रह्मांडपुराण के अनुसार हनुमान के सगे 5 भाई थे। सुन्दर नारी अमित बाल बच्चा महतारी पांचों भाई विवाहित थे उनके बच्चे भी थे इस बात का उल्लेख ‘ब्रह्मांडपुराण’ में मिलता है।

वानर राज केसरी के 6 पुत्र थे। इनमें सबसे बड़े हनुमान थे उनके बाद क्रमशः मतिमान, श्रुतिमान, केतुमान, गतिमान, धृतिमान थे। इन सभी की संतान भी थीं। जिससे इनका वंश वर्षों तक चला। इसी ग्रंथ में उल्लेख है कि बजरंगबली के पिता केसरी ने अंजना से विवाह किया था।

केसरी ने कुंजर की पुत्री अंजना को पत्नी के रूप में स्वीकार किया। अंजना रूपवती थीं। इन्हीं के गर्भ से प्राणस्वरूप वायु के अंश से हनुमान का जन्म हुआ। इसी प्रसंग में हनुमान के अन्य भाइयों के बारे में बताया गया है।

राम चरितमानस में कहा गया है कि श्रीराम भी हनुमान के भाई थे। कथा के अनुसार, राजा दशरथ की तीन रानियां थीं लेकिन संतान सुख के अभाव के कारण दशरथ जी दुःखी थे। वशिष्ठ की आज्ञा से दशरथ ने श्रृंग ऋषि को पुत्रेष्टि यज्ञ करने के लिए आमंत्रित किया गया।

यज्ञ के सम्पन्न होने पर अग्निकुंड से दिव्य खीर से भरा हुआ स्वर्ण पात्र हाथ में लिए अग्नि देव प्रकट हुए और दशरथ से बोले, ‘‘देवता आप पर प्रसन्न हैं। यह दिव्य खीर अपनी रानियों को खिला दीजिए। इससे आपको चार दिव्य पुत्रों की प्राप्ति होगी।

दशरथ शीघ्रता से अपने महल में पहुंचे। उन्होंने खीर का आधा भाग महारानी कौशल्या को दे दिया। फिर बचे हुए आधे भाग का आधा भाग रानी सुमित्रा को दिया इसके बाद जो शेष बचा वह कैकयी को दे दिया। सबसे अन्त में प्रसाद मिलने से कैकयी ने क्रोध में भरकर दशरथ को कठोर शब्द कहे। उसी समय भगवान शंकर की प्रेरणा से एक चील वहाँ आयी और कैकयी की हथेली पर से प्रसाद उठाकर अंजन पर्वत पर तपस्या में लीन अंजनी देवी के हाथ में रख दिया।

प्रसाद ग्रहण करने से अंजनी भी राजा दशरथ की तीन रानियों की तरह गर्भवती हुई। समय आने पर दशरथ के घर राम, भरत, लक्ष्मण और शत्रुघ्न का जन्म हुआ।

अंजनी ने हनुमान को जन्म दिया। इस तरह प्रगट हुए संकट और दुःखों को दूर करने वाले राम और हनुमान।

एक ही खीर से राम और हनुमान का जन्म होने से दोनों भाई माने जाते हैं।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *