लखनऊ में पांच और मरीज- संख्या हुई 262 लखीमपुर में डॉक्टर को कोरोना, गोंडा में छह नए संक्रमित

उत्तर प्रदेश टॉप 2 ब्रेकिंग न्यूज़ मुख्य समाचार लाइव खबरें

वैष्णो शर्मा

लखनऊ। सप्ताह में तीन बार राहत के बाद रविवार को राजधानी के कैसरबाग सब्जी मंडी इलाके में पांच और कोरोना के मरीज पाए गए। इससे इलाके में एक बार फिर दहशत मच गई है। इनमें चार पुरुष और एक महिला शामिल है। सभी को लोकबंधु अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। ऐसे में राजधानी लखनऊ में कोरोना मरीजों की संख्या 262 हो गई है। अब तक 210 लोग कोरोना के प्रकोप से बाहर आ चुके हैं। उधर, लखीमपुर में जिला चिकित्सालय के मनोचिकित्सक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाये गए हैं। वहीं, गोंडा में छह नए लोगों में वायरस की पुष्टि हुई है।

वहीं, लखीमपुर में जिला चिकित्सालय के मनोचिकित्सक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाये गए। उनकी रिपोर्ट भी आ चुकी है। जिला करीब 45 दिन से एक भी रिपोर्ट पॉजीटिव नहीं  मिलने से राहत और ग्रीन जोन में था। रिपॉर्ट आने के बाद डॉक्टर की हिस्ट्री पता करने में प्रशासन लगा है।। सभी को एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं। गोंडा में सोमवार सुबह छह नए कोरोना पॉजिटिव केस की पुष्टि हुई है। जिले में अब कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 16 हो गई है। सभी मरीजों को कोविड  लेवल-एक अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। ये सभी लोग पहले से आइसोलेटेड थे।

हरदोई जिले के दो और कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। बिलग्राम के दिवाली और माधौगंज के मटियामउ गांव के रहने वाले हैं। सैंपल कन्नौज से भेजे गए थे। वहां से सूचना भेजी गई कि मरीज हरदोई आएंगे। बता दें, अभी तक जिले में दो पॉजिटिव थे, वह भी ठीक हो गए थे और उन्हें आईशोलेशन वार्ड में रखा गया था।

वहीं , लखनऊ के जेंद्र नगर नर्सिंग होम को संक्रमित पाए जाने पर सील कर दिया गया है। यहां पर परिवार को  संक्रमित पाई गई महिला आठ मई को इलाज के लिए गई थी। महिला के संपर्क में आए डॉक्टर समेत अन्य स्टाफ की सूची सीएमओ कार्यालय से मांगी गई है। एसीएमओ डॉ. अनूप श्रीवास्तव ने बताया कि महिला द्वारा अस्पताल में दिखाने की बात पता चलने पर उसे 48 घंटे के लिए सील किया गया है। स्टाफ के नमूने भी लेकर जांच को भेजे जा रहे हैं।

सीएमओ की टीम ने रविवार को कोरोना संक्रमित विभिन्न क्षेत्रों से 150  लोगों के नमूने लेकर जांच को भेजा है। कैसरबाग सब्जी मंडी और मछली मोहाल से सर्वाधिक नमूने लिए गए।  साथ ही पांडेयनगर, अमीनाबाद, भूसामंडी और नाका क्षेत्रों में भी लोगों की जांच की गई। इन सभी की रिपोर्ट सोमवार को आएगी। प्रशासन का कहना है कि संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए लगातार कोशिश की जा रही है। हॉटस्पॉट एरिया में निगरानी ओर कड़ी की जा रही है।

वहीं, रविवार को 24 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे। ये सभी मरीज रामसागर मिश्र (आरएसएम) अस्पताल, लोकबंधु अस्पताल और  एसजीपीजीआइ से डिस्चार्ज किए गए हैं।  आरएसएम अस्पताल से 10, लोकबंधु  से नौ व एसजीपीजीआइ से रविवार को पांच मरीजों को छुट्टी दी गई।

आरएसएम अस्पताल के डॉक्टर पराग सक्सेना ने बताया कि यहां से 10 मरीजों को छुट्टी दी गई। इनमें से छी मरीज दिल्ली के व चार राजधानी के हैं। इनमें से एक मरीज सहादतगंज, एक आइआइएम रोड पावर हाउस का, एक नाका और एक सदर क्षेत्र का है। डिस्चार्ज होने वालों में दो महिलाएं भी शामिल हैं। इस अस्पताल से अब तक 73 मरीज डिस्चार्ज किए जा चुके हैं और 27 का अभी भी इलाज चल रही है। वहीं, लोकबंधु अस्पताल से डिस्चार्ज होने वाले नौ मरीजों में छह कैसरबाग सब्जीमंडी के दो तब्लीगी जमात रायबरेली के और एक सीतापुर का मरीज शामिल है। जबकि 18 मरीज अभी भी भर्ती है। वहां पीजीआइ से छुट्टी पाने वाले छह मरीजों में पांच मरीज लखनऊ और एक सुल्तानपुर निवासी हैं। इन सभी को 14 दिनों तक होम क्वारंटाइन में रहने की सलाह दी गई हैं।

नरही में शुक्रवार को निजी लैब से पॉजिटिव करार दी गई महिला की क्रॉस जांच केजीएमयू से निगेटिव आ गई है। इससे स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ नरही व आसपास के  लोगों ने भी राहत की सांस ली है, लेकिन निजी लैब की जांच पर इससे सवाल उठ गया है। इसकी वजह से नरहीवासियों को तीन दिन दहशत के साये में गुजारने पड़े।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *