कोरोना और शराब

कोरोना और शराब

लखनऊ। बड़े बुजुर्गों का कहना है, जब तक जीत न मिले तब तक जीत नही माननी चाहिए। फिर शराब का ठेके क्यों खोले गए, क्या केवल शराब की दुकाने खोलने से देश व प्रदेश में आर्थिक सुधार हो जाएगा। जिस तरीके से देश के प्रधानमंत्री एवं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री शानदार कार्यशैली से कोरोना मुक्त […]

Continue Reading

एक साल में 70 हज़ार से अधिक चंपा के पौधे लगवा कर, बिहार को दी नई पहचान

कहते है कि अगर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो कोई भी काम नामुमकिन नहीं ये कहावत बिहार के सुशील कुमार पर सटीक बैठती है. कुछ साल पहले तक अपने इलाके में सुशील की पहचान 2011 में केबीसी के विनर के रूप में थी, जब उन्होंने पाँच करोड़ रुपए जीते थे। मगर अब सुशील […]

Continue Reading