यूपी की सभी लैब में आरटीपीसीआर से बढ़ाई जाएगी टेस्टिंग

यूपी की सभी लैब में आरटीपीसीआर से बढ़ाई जाएगी टेस्टिंग

उत्तर प्रदेश ब्रेकिंग न्यूज़ मुख्य समाचार राज्य लाइव खबरें सेहत स्वास्थ्य

चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा है कि प्रदेश की सभी लैब में आरटीपीसीआर  (रिवर्स ट्रान्सक्रिप्शन पॉलीमैटेस चेन रिएक्शन) से टेस्टिंग बढ़ाई जाएगी। सरकारी क्षेत्र में 25 और निजी क्षेत्र में भी इतनी ही लैबों से आरटीपीसीआर के माध्यम से टेस्टिंग हो रही है।

ये सभी लैब प्रतिदिन 35 हजार से 40 हजार तक आरटीपीसीआर तकनीक से टेस्टिंग कर रही हैं। इन्हीं लैब की सहायता से प्रदेश में प्रतिदिन टेस्टिंग एक लाख से ऊपर हो रही है। सरकार सभी प्रकार के संक्रमित लोगों की पहचान कर टेस्टिंग करेगी।श्री खन्ना गुरुवार को लखनऊ अनलॉक 2.0 के तहत  ‘कोरोना के बढ़ते संक्रमण में चिकित्सा की चुनौतियों व समाधान’ विषय पर ‘हिन्दुस्तान’ के आयोजित ई संवाद में मुख्य वक्ता थे।

संक्रमण को  कम करने में सरकार काफी हुई सफल

उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने पूरी ताकत लगाई हुई है। संक्रमण को कम करने में सरकार काफी हद तक सफल भी हुई है। संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेश में निगरानी समितयां भी बनाई हुई हैं। इन निगरानी समितियों  ने 7 करोड़ 22 लाख 91 हजार से अधिक लोगों की निगरानी की। उनके अंदर जरा भी लक्षण पाए गए तो उनका एंटीजेन टेस्ट किया गया। फिर स्थिति के अनुसार उनके नमूने की जांच आरटीपीसीआर से भी की गई। सरकार ने टेस्टिंग की शुरूआत ही आरटीपीसीआर से की थी। शुरूआत में केवल एक लैब थी। लेकिन केन्द्र सरकार के सहयोग से प्रदेश में अब 50 आरटीपीसीआर की लैब हैं।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *