पाकिस्तान: बंटवारे के बाद पहली बार हिन्दुओं के लिए खुला 1,000 पुराना मंदिर

देश पाकिस्तान मुख्य समाचार

पाकिस्तान के सियालकोट में 1,000 साल पुराना हिंदू मंदिर बंटवारे के बाद पहली बार पूजा के लिए खोला गया। अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय लोगों की मांग को देखते हुये इवेक्यू ट्रस्ट पॉपर्टी द्वारा इसे खोलने का फैसला लिया गया है। दिवंगत लेखक राशिद नियाज के द्वारा लिखी गई ‘हिस्ट्री ऑफ सियालकोट’ के मुताबिक यह मंदिर 1,000 साल पुराना है जो लाहौर से 100 किलोमीटर की दूरी पर शहर के धारोवाल क्षेत्र में है।

मंदिर का नाम शवाला तेजा सिंह मंदिर है। पाक में अल्पसंख्यकों के पवित्र स्थलों की देखरेख करने वाली इवेक्यू ट्रस्ट पॉपर्टी बोर्ड ने स्थानीय हिंदू समुदाय की मांग पर भारत-पाकिस्तान बंटवारे के बाद पहली बार मंदिर का दरवाजा खोला है। बोर्ड के अनुसार पहले इस क्षेत्र में हिंदू धर्म से ताल्लुक रखने वाले लोग नहीं रहते थे जिसके कारन अब तक ये मंदिर बंद था।

उन्होंने बताया कि 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद इस मंदिर पर भी हमला हुआ था और यह आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया था। पाकिस्तान में हिंदू समुदाय सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है।

Sharing

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *